!! जय भास्कर !!

Friday, January 6, 2012

मकर संक्रांति

इस बार मकर संक्रांति पर्व के अवसर पर कई विशेष योग बन रहे हैं, जिसके कारण इस पर्व का महत्व और भी अधिक हो गया है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस बार मकर संक्रांति(15 जनवरी) पर्व पर भानु सप्तमी का योग भी बन रहा है। यह योग इसके पहले सन 1951 में बना था।

ज्योतिषाविदों के अनुसार सप्तमी तिथि व रविवार को संक्रांति आने से भानु सप्तमी का योग बन रहा है। संक्रांति 14 जनवरी की रात 12:58 से लगेगी। इसलिए मकर संक्रांति का पुण्य काल 15 जनवरी, रविवार को रहेगा। सूर्य का राशि परिवर्तन अद्र्धरात्रि में हो रहा है इसलिए सूर्योदय से पर्व काल शुरु होगा। इस दिन देव दर्शन, स्नान, दान के लिए 10 घंटे का पुण्यकाल रहेगा और सूर्य उपासना से सौ गुना अधिक फल मिलेगा। मकर संक्रांति पर्व से सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होंगे और मांगलिक कार्यों की शुरुआत हो जाएगी।

इस बार क्यों खास है मकर संक्रांति?

जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तो मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है। इस दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार उत्तरायण देवताओं का दिन माना गया है। इस दिन विशेष रूप से सूर्य की पूजा की जाती है। इस बार मकर संक्रांति के पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि के योग के साथ भानु सप्तमी होने से सूर्य की उपासना कर स्नान-दान पुण्य करने से सौगुना अधिक फल मिलेगा।

No comments:

Post a Comment